जो लोग तबरेज पर चुप थे
आज साधु पर बोल रहे हैं
वैसे गलत तो दोनों ही है
फिर ना जाने कैसे लोग अपने तराजू को तोल रहे है।।