वो सेहरी की नूर दिखेगी
इफ्तार में बरकत मिलेगी
कहा ऐसे खुशियां दिखेगी
ये तो रमज़ान में ही मिलेगी

#implicitwords_