रमज़ान का महीना आया है
ईमान को दिल में भरने वाला है
करना इबादत रमज़ान के शान जैसी
क्योंकि ये रमज़ान सबको नसीब नहीं होता है

#implicitwords_