क्या गजब का खेल खुदा का है
फिज़ा है साफ तो मुंह पर मास्क है
ए इंसान तू भी देख
तू कैद है और पक्षी आजाद है