रमज़ान की रुखसती का वक़्त हो चला
शैतान फिर से रिहा हो चला है
संभाले रखना अपना ईमान ऐसे ही
क्यूंकि फिर रमज़ान हमसे दूर हो चला